Sunday, March 25

वो बचपन की मुलाकात आज भी है याद, 
वो छुट्टियों के बाद का साथ आज भी है याद,
जुदा हुए हम तो क्या हुआ ऐ वक़्त,
वो चाँद सा रुखसार आज भी है याद ।। 

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...