Sunday, December 15

तब क्यूं ओठों ने गुस्ताख तेरा नाम 'मोहब्बत' रख डाला था?
कमबख्त आज भी हर 'इश्क' में तेरा ही नाम याद आता है !
कुछ लम्हें ही तो थे गुफ्तगू के, हम दोनों के दरम्यां,
क्यूं फिर हर लम्हे में सिर्फ तेरा एहसास याद आता है ?

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...