Wednesday, September 6


अगर कभी अँधेरी रातों के सैलाब, 
सब्र के बांध परखने आ जायें 
ठहर जाना कुछ देर उनके भी साथ 
क्यूंकि हैं नावाकिफ वो इस बात से 
कि हर रोज फिर से दस्तक देने की 
है उजाले की अटूट फितरत |

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...