Wednesday, September 6


अगर कभी अँधेरी रातों के सैलाब, 
सब्र के बांध परखने आ जायें 
ठहर जाना कुछ देर उनके भी साथ 
क्यूंकि हैं नावाकिफ वो इस बात से 
कि हर रोज फिर से दस्तक देने की 
है उजाले की अटूट फितरत |

No comments:

Post a Comment

#All Men

Charles Dickens in the opening paragraph of 'A Tale of two Cities' wrote, "It was the best of times, it was the worst of times...