Tuesday, June 20

अभी तो सुलगती सी है आग बस,
अभी से झुलसने का इतना डर !
बरखुरदार जब लपटें उठेंगी आशियाने तक,
तब क्या भागते मिलोगे जमाने तक !

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...