Monday, March 5

खुश रहता हूँ खुली आँखों से मैं 
क्यूंकि आंसुओं को भी है पता 
मेरे पत्थर दिल की हकीकत | 
काफी अच्छी समझ हो चुकी है 
बरखुरदार अब अपने  दरम्यान 
तभी तो वो सैलाब बन बस सपनों में आते हैं 
और हम भी 'बेफिकर, बेतरतीत 'जिए' जाते हैं | 



No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...