Tuesday, September 2

जीने का फलसफा

धड़कते दिल का हाल पूछो,
तड़पते मन का एहसास जानो,
अरमान जो हैं तेरे दिल में,
उनको पूरा करने की तरकीब निकालो।

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...