Monday, September 3

शरारे आँखों में, अदाएं बातों में
थी शोखियाँ चलने में, नजाकत भी संभलने में
अब तो उफ़ याद ही नहीं
थे सबब कितने मेरे बहकने में |

'शशांक'

No comments:

Post a Comment

You taste good Not because you are But because you are forbidden From aspiration to obsession And then fatal compulsion That ...