Monday, September 3

शरारे आँखों में, अदाएं बातों में
थी शोखियाँ चलने में, नजाकत भी संभलने में
अब तो उफ़ याद ही नहीं
थे सबब कितने मेरे बहकने में |

'शशांक'

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...