Friday, October 5

मोहब्बत का भी यारों
क्या खूब फ़साना होता है
दो जिंदगानी तबाह करने में
 मशगूल पूरा जमाना होता है |

'शशांक'

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...