Thursday, August 28

जिंदगी

राहें अनजानी सी हैं ,
जाना कहाँ है पता नहीं.
फिर भी चले जा रहे है मंजिल की तलाश में ,
शायद इसी का नाम जिंदगी है.

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...