Thursday, August 28

जिंदगी

राहें अनजानी सी हैं ,
जाना कहाँ है पता नहीं.
फिर भी चले जा रहे है मंजिल की तलाश में ,
शायद इसी का नाम जिंदगी है.

No comments:

Post a Comment

#All Men

Charles Dickens in the opening paragraph of 'A Tale of two Cities' wrote, "It was the best of times, it was the worst of times...