Friday, August 29

तन्हाई के लम्हों में

तन्हाई के लम्हों में जागा करते थे कभी,
अब तो हाल है ऐसा यारों तन्हाई बचती ही नहीं॥

1 comment:

  1. Fantastic "Sher" for college students. Bcoz " Thode se samay mein hi sab manage karna padta hai"

    ReplyDelete

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...