Friday, August 29

अनकही

रात को अकेले होते थे कभी
पल दो पल उसे सोच लेते थे।
पर यारों अब क्या करें,
अब तो हालत है ऐसी,
रात - दिन उसी के सपने दिखते हैं॥

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...