Friday, August 29

तेरी याद

तेरी यादों ने हमें तड़पा दिया ,
शायर था ना जो कभी शायरी सिखला दिया।
अब जब बैठते हैं करने शायरी
खुदा कसम तेरी याद शब्द बन जाती है॥

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...