Monday, August 27

'अक्स' उनका समझ के ख्वाब पैमाने से भूलना है
उफ़ होगा कैसे ये ! मुझको तो मुझसे ही भूलना है ||

'शशांक'

No comments:

Post a Comment

कभी सोचता हूँ समेट दूँ तुम्हारी दास्ताँ कागचों पे अपने शब्दों के सहारे पर बैठता हूँ जब लिखने तुम्हें तो रुक जाता हूँ अब तुम ही बताओ ...